January 24, 2019

Travel
  • गोहद का जाट राजवंश

    तू दृढ़ता की प्रतिमूर्ति , सुरक्षा का साधन, तू रणखोरों का का लोभ, समर का आकर्षण। मैं भीमसिंह राणा की गौरव ...

    तू दृढ़ता की प्रतिमूर्ति , सुरक्षा का साधन, तू रणखोरों का का लोभ, समर का आकर्षण। मैं भीमसिंह राणा की गौरव गाथा हूँ, मैं उनकी अमर कीर्ति के गीत सुनता हूँ.......। ...

    Read more
  • एसाह / सिहोनिया

    ऐसाह और सिहोनिया मुरैना जिले की अम्बाह तहसील में प्राचीन ऐतिहासिक स्थान है। ऐसाह "ग्वालियर के तोमर वंश " ...

    ऐसाह और सिहोनिया मुरैना जिले की अम्बाह तहसील में प्राचीन ऐतिहासिक स्थान है। ऐसाह "ग्वालियर के तोमर वंश " का उदगम स्थल है। ऐसाह को कभी "ऐसाह मणि" कहा जाता था। ऐसाह का मतलब ईश से है और समीप के गाँव सिहो ...

    Read more
  • आह गम - ए - गन्ना बेगम Noorabad

    अपने प्रेम को व्यक्त करने के लिए महादजी ने गन्ना बेगम के मकबरे पर फारसी में लिखवाया था, ‘आह-गम-ए-गन्ना बे ...

    अपने प्रेम को व्यक्त करने के लिए महादजी ने गन्ना बेगम के मकबरे पर फारसी में लिखवाया था, ‘आह-गम-ए-गन्ना बेग़म’, यानी गन्ना बेगम के गम में निकली आह। गन्ना नाम तो मां ने रखा ही इसलिए था कि वह गन्ने के रस ...

    Read more
  • जौहर कुंड - ग्वालियर दुर्ग

    चित्तौड़ गढ़ के जौहर से सभी परिचित है पर इस तथ्य को कम लोग ही जानते है कि ग्वालियर दुर्ग पर भी बड़े जौहर ...

    चित्तौड़ गढ़ के जौहर से सभी परिचित है पर इस तथ्य को कम लोग ही जानते है कि ग्वालियर दुर्ग पर भी बड़े जौहर हुए है। गोपांचल दुर्ग का इतिहास गीत , संगीत ,कला , साहित्य के साथ साथ शौर्य , पराक्रम , त्याग , ...

    Read more
  • Jora Alapur / जौरा अलापुर

    क्या आप जानते हैं , इब्नबतूता 1342ई मैं मुरेना जिले के जोरा- अलापुर आया था  जौरा ग्वालियर स्टेट के दौरान ...

    क्या आप जानते हैं , इब्नबतूता 1342ई मैं मुरेना जिले के जोरा- अलापुर आया था  जौरा ग्वालियर स्टेट के दौरान सन 1904 तक सिकरवारी का सूबा अर्थात ज़िला मुख्यालय रहा है। सन 1905 में ग्वालियर स्टेट में जिला पु ...

    Read more
  • Sabalgarh / सबलगढ़

    सबलगढ़ का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। महाभारत काल मे यह क्षेत्र " चेदि " राजाओं के अधीन रहा। प्राचीन भारत म ...

    सबलगढ़ का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। महाभारत काल मे यह क्षेत्र " चेदि " राजाओं के अधीन रहा। प्राचीन भारत मे यह अलग अलग काल खण्डों में क्रमशः मौर्य , कुषाण एवं गुप्त राजाओं के अधीन रहा। 8वी से 12 स ...

    Read more
  • Baijatal

    “Baijatal” , the name of this tank is after the name of  Baijabai who is the wife of  ruler Daulat Rao Sc ...

    “Baijatal” , the name of this tank is after the name of  Baijabai who is the wife of  ruler Daulat Rao Scindia in early 1800. Baijabai was a very brave,skilled politician and a very ambitious woman.Sh ...

    Read more
  • Tomb of Ghaus Mohammad

    Hazrat mohammad ghaus was one of the noteworthy sufi in the history of India.Mohammad Ghaus has written m ...

    Hazrat mohammad ghaus was one of the noteworthy sufi in the history of India.Mohammad Ghaus has written many books in which “Gulzare Abraar” is the most famous. This noble saint was born 16th century ...

    Read more
  • Gurudwara Data bandi chor

    Sri Hargobind the sixth Guru was detained in the Fort of Gwalior by the order of Emperor Jahangir. The ca ...

    Sri Hargobind the sixth Guru was detained in the Fort of Gwalior by the order of Emperor Jahangir. The cause of detention, it is said, was that the fanatical Muslim officers, particularly those under ...

    Read more
  • The Chausath Yogini Temple - Mitawali

    The Chausath Yogini Temple, Morena, also known as Ekattarso Mahadeva Temple, is an 11th-century temple lo ...

    The Chausath Yogini Temple, Morena, also known as Ekattarso Mahadeva Temple, is an 11th-century temple located in Mitawali village of Morena district. It is one of the few such Yogini temples in the c ...

    Read more
  • Batesara group of temples

    Batesara is a group of ruined temples spreaded over the western slope of an isolated hill are located in ...

    Batesara is a group of ruined temples spreaded over the western slope of an isolated hill are located in south west of padavali village in the Morena District near by Gwalior. Made of the stone masonr ...

    Read more