ग्वालियर. यह हम सभी के लिए सुनहरा अवसर है, हम एक-दूसरे से अपने अनुभवों को सांझा कर सकें। इन 15 दिनों में आपको बेहतर व नवीन सूचनाओं का ज्ञान दे सकें। एक शिक्षक के परिदृश्य से शिक्षण वही है जो वह अपने शिष्य को दे सके। इसके अतिरिक्त जिन क्षेत्रों में वह कमी महसूस कर रहा है उसकी जानकारी एकत्र कर शिष्य को श्रेष्ठ रूप में परोस सकें। आज की तकनीकी नवयुग में हमें शिक्षण के साथ तकनीकी ज्ञान में भी परिपूर्ण होने की चुनौती है। यह बात…

समाचार पात्र मैं पूरा पढ़ें

Leave a Reply

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.