ग्वालियर. महापौर को इस्तीफा दिए हुए 1 महीने से भी अधिक समय बीत चुका है लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा अभी तक इस पर कोई निर्णय नहीं किया गया है। जिसके कारण निगम बिना महापौर के ही चल रही है। इसका खामियाजा शहर की जनता को भुगतना पड़ रहा है, न तो परिषद की बैठक हुई और न ही एमआईसी की बैठक हो पा रही है। जिससे शहर विकास के मुद्दे सहित कई महत्वपूर्ण मामले अटके हुए हैं। हालांकि 10 जुलाई से अब महापौर कार्यकाल के 6 महीने शेष हैं और अब कभी भी शासन द्वारा महापौर का दायित्व सौंपने के लिए जल्द ही पार्षद के नाम की घोषणा की जा सकती है।

विवेक नारायण शेजवलकर ने 5 जून को महापौर पद से इस्तीफा दे दिया था। उस…

समाचार पत्र मैं पूरा पढ़ें

Leave a Reply

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.